मसाज के लाभ, विधि और सावधानियां

Loading...

मसाज के लाभ – दिनचर्या में जितना महत्व प्रतिदिन किए जाने वाले कार्यों, आहार, व्यायाम का है, उतना ही मसाज का भी है। संपूर्ण शरीर या किसी अंग विशेष पर हाथों से दबावपूर्वक किसी द्रव या बिना किसी द्रव से की जाने वाली प्रक्रिया मालिश कहलाती है। आम बोलचाल की भाषा में मसाज का अर्थ तेलादि से हाथों के द्वारा की जाने वाली क्रिया से होता है।

मसाज और मालिश के फायदे / Benefits of Body Massage

  • बॉडी मसाज करने से मांसपेशियों की सिकुड़ने और फैलने क्षमता बढ़ती है। उनमें Metabolism का कार्य सुचारु रूप से होने लगता है तथा शरीर में बन रहे फ्री रेडीकल्स को भी हटाया जा सकता है।
  • अधिक श्रम करने से जो मांसपेशियों में थकावट होती है, वह भी दूर हो जाती है।
  • बॉडी मसाज करने से नाड़ी व रक्त प्रवाह सुचारु रूप से चलता है।
  • बॉडी मसाज करने से नींद अच्छी आती है। आँखों (Eyes) की रोशनी बढ़ती है। त्वचा कोमल, चमकदार एवं दृढ़ बनती है।
  • प्रतिदिन बॉडी मसाज करने से रक्त संचार बढ़ जाता है, जिससे त्वचा रोग नहीं होते। मालिश के समय लंबी-लंबी सांसें लेना बहुत महत्तवपूर्ण होता है। इससे शरीर का विकार बाहर निकलेगा और शरीर में स्फूर्ति आएगी।
  • विधिपूर्वक मसाज करना भी एक कला है| रोज बॉडी मसाज करने से रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है। चोट-मोच आने पर ज्यादा दर्द नहीं होता।
  • रोजाना मालिश करने से रंग में निखार आता है और विशेष प्रकार की चमक पैदा हो जाती है। रोजाना पैरों की Malish करने से पैरों में खुरदरापन, रुक्षता, कड़ापन, स्तब्धता, बिवाई फटना आदि समस्याए नहीं होती हैं।
  • सिर की मालिश से मस्तिष्क में तरावट एवं मानसिक शक्ति का अनुभव होता है।
  • Malish से त्वचा के छिद्रों में तेल भरा रहने के कारण किसी भी प्रकार के जीवाणु के प्रवेश का भय नहीं रहता।

मसाज, मालिश करने की विधि/ How to do Body Massage.

मसाज Body Massage malish ke fayde vidhi

Body Massage -मसाज के लाभ

Loading...
  • विधिपूर्वक की गई Malish ही संपूर्ण लाभ प्रदान करती है। सबसे पहले सिर में गुनगुना तेल लगाकर उंगलियों के पोरों से धीरे-धीरे मालिश करें।
  • सिर पर Malish करते समय कान के पीछे का भाग तथा ऊपर के भाग (कनपटी वाले स्थान) पर भी विशेष रूप से मालिश करें।
  • गर्दन की Malish ऊपर से नीचे व पीछे से आगे की ओर करें। चेहरे की मालिश करते समय विशेष ध्यान देना चाहिए। सर्वप्रथम संपूर्ण चेहरे पर अच्छी तरह से तेल लगा लें, तत्पश्चात माथे से शुरू करें। माथे के मध्य भाग पर दोनों हाथों की उंगलियां रखकर पीछे की ओर मालिश करें।
  • गाल एवं ठुड्डी की Malish हथेलियों के द्वारा नीचे से ऊपर की ओर करनी चाहिए। गाल के उभरे हुए भाग (कपोल) तथा आंखों के चारों ओर पलकों में गोलाकार मालिश करें।
  • इसके बाद छाती, पेट तथा पीठ की मालिश करें।
  • छाती एवं पेट की मालिश अनुलोम दिशा में यानि ऊपर से नीचे की ओर हल्के-हल्के हाथों से मालिश करें।
  • दोनों बाजुओ पर ऊपर से नीचे समान गति से मालिश करें।
  • भुजाओं के विभिन्न भाग- जैसे कोहनी, कलाई आदि वहां पर गोलाई में मालिश करें।
  • इसी प्रकार उक्त विधि से Malish पैरों पर भी करनी चाहिए। तलवो तथा हथेलियों पर मालिश से विशेष लाभ होता है। इसलिए यंहा जरुर मालिश करें।

मसाज या मालिश के लिए सर्वोत्तम तेल/ Best oil for malish.

  • बॉडी मसाज के लिए साधारणत: तिल के तेल, सरसों के तेल तथा नारियल के तेल का उपयोग करना चाहिए। चेहरे पर विशेष रूप से चमक लाने के लिए इसमें केसर मिला कर मालिश करें।
  • जैतून का तेल की मालिश भी बहुत लोकप्रिय है इससे भी शरीर की विशेष लाभ मिलता है |
  • वैसे भारत में ज्यादातर लोग सरसों के तेल का मालिश वाला विकल्प चुनते है |
  • तेल का चुनाव आप अपनी आवश्यकतानुसार कर सकती हैं, जैसे ऑयल, मलाई, मक्खन, दूध और टेलकम पाउडर से भी Malish की जाती है।
  • मालिश के लिए तेल का इस्तमाल बेहतर है, लेकिन शारीरिक स्थिति मौसम आदि के हिसाब से संतरा, खीरा, टमाटर या आलू बुखारा जैसे फलों के रस का भी इस्तेमाल किया जा सकता है।

माथे की मसाज / Forehead Massage steps

  • दोनों अंगूठों की भौंहों (Eyebrows) के ऊपर माथे के बीच में रखें। बाकी उंगलियां सिर के दोनों ओर रखें। मालिश बिल्कुल हल्के हाथों से होनी चाहिए, क्योंकि चेहरे की त्वचा बेहद नाजुक और संवेदनशील होती है। धीरे-धीरे अंगूठों से मालिश करते हुए कनपटी की ओर ले जाएं, फिर कानों के साइड में मालिश करें। यह क्रिया दो-तीन बार करें।

गालों की मालिश / Cheeks Massage steps

  • दोनों हथेलियों की तर्जनियों को नाक के आसपास कुछ सेकंड तक रखें और थोड़ा दबाव दें। यह मालिश आपको तनावमुक्त करने के साथ ही साइनस में भी राहत पहुंचाती है।
  • फिर धीरे-धीरे उंगलियों को नीचे कान की ओर ले जाएं, फिर उंगलियों को उठाकर नाक के नीचे रखें और उंगलियों को थोड़ा घुमाव देते हुए कान के नीचे जबड़े की हड्डी (jaw bone) तक लाएं।
  • इस क्रिया को हर बार हल्का-सा घुमाव देते हुए दोहराएं और उंगलियों की Jaw Line से होते हुए ठुड्डी तक लाएं।

 ठुड्डी की मसाज /Chin Massage steps

  • यह मसाज Jaw Line को टोन करने के साथ ऊर्जा का प्रवाह बढ़ाती है।
  • अंगूठों को ठुड्डी पर रखें, बाकी उंगलियों से जबड़े को सपोर्ट दें।
  • अंगूठों से ठुड्डी पर नीचे व बाहर की ओर हल्के हाथों से मालिश करें। इस क्रिया को 6-7 बार दोहराएं।

गर्दन की मसाज /Neck Massage steps

  • गले व कंधे पर जहां तक आप मालिश करना चाहते हों, Facial Oil लगाएं। कानों के साइड से होते हुए कंधों तक धीरे-धीरे हाथों से मालिश करें।
  • यहां आप दोनों हाथों से बड़े स्ट्रोक ले सकते हैं, जिससे कंधे और गर्दन सभी हिस्सों पर मालिश हो सके।
  • इस क्रिया को हर बार हल्का-सा घुमाव देते हुए दोहराएं और उंगलियों की जाँ लाइन से होते हुए ठुड्डी तक लाएं।
  • बॉडी मसाज करवाने से पहले शरीर की बनावट को समझना जरूरी है। आपको अपने विभिन्न अंगों की जानकारी होनी चाहिए, जिससे यह ज्ञात हो जाए कि मालिश का प्रेशर कितना हो और दिशा किस ओर हो |
  • बॉडी मसाज करवाते हुए हमें किस-किस प्वाइंट पर कितना दबाव डलवाना है यह अलग-अलग शरीर पर निर्भर करता है।
  • विभिन्न अंगों के हिसाब से प्रेशर होना चाहिए, इसके नियम बनाए गए हैं। मांसपेशियों की कुदरती बनावट को ध्यान में रखकर की गई मालिश सर्वोत्तम रहती है।
  • नोट : चेहरे पर Malish करने से पहले चेहरा अच्छी तरह साफ कर लें ।

मसाज संबंधी आवश्यक सावधानियां / Safety Precautions In Body Massage

  • प्रतिदिन संपूर्ण शरीर पर कम-से-कम 20-30 मिनट तक ही मालिश करनी चाहिए।
  • मालिश करवाने के कम-से-कम आधे घंटे बाद नहाना चाहिए।
  • भोजन एवं मसाज के बीच कम-से-कम 3 घंटे का अंतर होना चाहिए। इसीलिए मालिश प्रात:काल करना अच्छा होता है।
  • सर्दियों में खुली धूप में तथा गर्मियों में छाया में मालिश करना चाहिए।
  • जो लोग किसी रोग से पीड़ित हो, बुखार से ग्रस्त हो उन्हें Malish नहीं करनी चाहिए।
  • प्रत्येक अंग पर कम-से-कम 5 मिनट तक मालिश करने से उत्तम लाभ प्राप्त होता है। ध्यान रखें, जिस स्थान या अंग पर मालिश करें, वह साफ हो।
  • किसी भी हड्डी पर दबाव डालकर मालिश न करवाएं। सीधे रीढ़ पर Malish करवाने से भी बचें।
  • मसाज कराते समय अपने शरीर को शिथिल अवश्य छोड़ दें। गर्भधारण के दिनों में मालिश न कराएं। मालिश खुद करें तो झटके से न करें, बल्कि हल्के दबाव के साथ करें।
  • Malish करने का स्थान स्वच्छ और शांत होना चाहिए। एकाग्रता से की गई मालिश शरीर में नई चेतना, जान, स्फूर्ति पैदा करती है।
  • बॉडी मसाज करवाते समय इस बात का ध्यान रखें कि मालिश हमेशा लेटकर ही करवाएं। इससे काफी आराम मिलता है।
  • मालिश हमेशा नीचे से शुरू करके ऊपर की ओर करवाएं। इस प्रकार की गई मालिश से शिराओं को ताकत और शरीर की स्फूर्ति तथा ताजगी मिलती है।
  • प्रतिदिन मालिश न करने वाले व्यक्तियों को सप्ताह में एक बार अवश्य मालिश करनी चाहिए।

दुनिया की 5 मशहूर मसाज / Top 5 Massages in the World

  • बॉडी मसाज का प्रचलन भारत में ही नहीं विदेशों में भी बहुत है। विदेशों में तो मालिश की कुछ ऐसी पद्धतियां प्रचलित हैं जो चौंका देने वाली हैं।
  • भारत में बॉडी मसाज करने का ढंग है शरीर पर अंगूठे और उंगलियों का गहरा दबाव, शरीर पर रगड़ द्वारा मालिश और संपूर्ण सुकून देने वाली चंपी मालिश। इस Malish में सिर, कधे, गर्दन और चेहरे की मिली-जुली मालिश हो जाती है। विशिष्ट जड़ी-बूटियों वाले तेलों और मालिश के साथ विशेष स्ट्रोक देकर “Kerala Body Massage” की जाती है। भारतीय पद्धति में Herbal Oils और हाथों के स्पर्श का विशेष महत्व है। यह भी पढ़ें –
  • रोम और ग्रीक में स्वीडिश मालिश (Swedish massage) बहुत ही लोकप्रिय है। इस मालिश में रबिंग एंड पिंचिंग, नीडिंग की जाती है, जिससे मांसपेशियों में शक्ति और निखार आता है।
  • तुईना चाइनीज मसाज (Tui Na Massage) का एक रूप है जो Meridian Systems पर आधारित है। इस मालिश में विभिन्न प्रकार से हाथों की गतिविधियों द्वारा मालिश की जाती है। इससे पूरे शरीर की आराम मिलता है।
  • जापानी Malish का उपयोग शरीर के पृष्ठ भाग को आराम देने और तनाव से मुक्ति दिलाने में होता है।
  • अमेरिका में प्रचलित मसाज जिन शिन डू (Jin Shin Do Massage) के द्वारा मांसपेशियों को क्रॉनिक स्ट्रेस तथा तनाव से मुक्ति मिलती है।
Loading...

Wowhealthytips.com मुख्यतः प्राकृतिक एवं घरेलू नुस्खों के सम्बन्ध में लोगों में आम जानकारी और जागरूकता बढाने के लिये बनायीं गयी है | यहाँ पर दिए गए नुस्खे कई लोगो को लाभान्वित कर चुकी है ,लेकिन किसी भी प्रकार की व्यक्तिगत चिकित्सा शुरू करने से पहले चिकित्सक/वैद्य से परामर्श करना आवश्यक है । Wowhealthytips.com वेबसाईट या इसके संचालक ऐसी किसी भी सलाह के परिणामों के लिये उत्तरदायी नहीं होंगे | अतः कोई भी इलाज करने से पहले चिकित्सक से सलाह मोशारह अवश्य करें |