कैसे करे अपने गुस्से को Control ?

Loading...
loading...

जब भी हम पर कोई गुस्सा करता है तो हम भी उस पर गुस्सा करने लग जाते है। हम एक मिनट भी यह नही सोचते की सामने वाले से जो हो गया है और सामने वाला जो करना चाहता है उसमे फर्क है। Read Anger Management Tips in Hindi (Gusse ko Control Karne ke Tips).

Anger Management Tips in Hindi

Anger Management Tips in Hindi

(Gusse ko Control Karne ke Tips)

बच्चे कई बार बिल्कुल irrationally behave करते है। बच्चे उन लोगो पर चिल्लाने लग जाते है जो उनकी सबसे ज्यादा care करते है। खाना फेंक देते है और कुछ नहाने पर भी रोने लग जाते है। Infact हम उनसे और ज्यादा प्यार से बात करते है, उनकी care करते है उन्हें सहलाते है। हम बच्चो पर क्यों चिढ़ते? हम बच्चो पर गुस्सा क्यों नही करते? ऐसा इसलिए करते है क्योकि हम जानते है कि बच्चो का कोई mean intention या बुरी भावना नही होती।

हम बच्चो के लिए तो ये assume करते है कि शायद उन्हें भूख लगी होगी, शायद वो थक गये होंगे, शायद वो छोटे बच्चे के आने की वजह से परेशान होंगे। पर जब ऐसी same situation बड़ो पर आ जाती है तो हम बिल्कुल ही उल्टा react करते है।

अगर कोई line में हमसे आगे आकर लग जाता है तो हमे instantly गुस्सा आ जाता है। हमे लगता है कि सामने वाला हमारे भोलेपन का फायदा उठा रहा है। पर अगर हम अपना interpretation बच्चो के हिसाब से करे जो शायद हमारे assumption बहुत different है। शायद उस इंसान को रात को नींद पूरी नही आई हो। शायद उनके घुटनो में दर्द है। या फिर शायद वो किसी relationship problem कि वजह से परेशान हो।

Loading...

ऐसी और इससे भी बड़ी situation में शांत रहने की एक trick है। कभी भी ये न सोचे कि लोग बुरे है – आपको बस उस point को पकड़ना है जिसने उन्हें बुरा बनाया है। वो शायद अपनों से परेशान हो, अपने आप को शांत रखने के लिए आप ये सोच सकते है कि उन्होंने कहीं न कहीं बहुत suffer किया है और वो अपनी suffering को छुपाने के लिए गुस्सा कर रहे है।

दूसरे लोग कभी कभार बहुत खुश नजर आ सकते है लेकिन कुछ न कुछ है जो उन्हें परेशान करता है, वरना वो हमे क्यों परेशान करते?

जब कोई हम पर गुस्सा करता है तो हमे उन पर गुस्सा करने की बजाए ये सोचना है कि वो खुद अपने लिए नफरत, disappointment, failure और low self esteem से भरे हुए है। तो वो हम पर गुस्सा करके हमारा क्या कर लेंगे।

जो गुस्सा वो ऊपरी सतह पर बताते है उसके नीचे बहुत दुःख छुपा होता है। जैसे ही हम उनके दुःख को जान लेंगे हमारा उनपर गुस्से की बजाय दवा का भाव develop होगा।

जैसे ही हमारे अन्दर उनके लिए दया का भाव आएगा वैसे ही आप चाहकर भी उन पर गुस्सा नही कर पाएंगे। आप धीरे धीरे ये समझने लग जायेंगे कि आधे झगड़े तो एक reaction ना देने से ही खत्म हो जाते है। कुछ ना बोलने से, कुछ न react करने से दूसरे इंसान के दिमाग को ये सोचने का time मिलता है कि उसने क्या गलत किया होगा? अगर आप उस पर गुस्सा करते है तो वे ये सोचने लग जाता है कि उसे आगे गुस्से से क्या कहना चाहिए। लोगो को time देने से, कुछ न react करने से, उनके pain point को समझने से और उनके प्रति दया भाव रखने से ही बहुत शांति मिल सकती है।…

loading...
SOURCEhealthindian
Loading...

Wowhealthytips.com मुख्यतः प्राकृतिक एवं घरेलू नुस्खों के सम्बन्ध में लोगों में आम जानकारी और जागरूकता बढाने के लिये बनायीं गयी है | यहाँ पर दिए गए नुस्खे कई लोगो को लाभान्वित कर चुकी है ,लेकिन किसी भी प्रकार की व्यक्तिगत चिकित्सा शुरू करने से पहले चिकित्सक/वैद्य से परामर्श करना आवश्यक है । Wowhealthytips.com वेबसाईट या इसके संचालक ऐसी किसी भी सलाह के परिणामों के लिये उत्तरदायी नहीं होंगे | अतः कोई भी इलाज करने से पहले चिकित्सक से सलाह मोशारह अवश्य करें |